वर्मम/मर्म एक दर्द प्रबंधन प्रणाली - Varmam a pain management system in Hindi

7 learners enrolled

Language: Hindi

Instructors: Dr. Abhishek

Validity Period: 90 days

₹3000 63.37% OFF

₹1099 including GST

PREVIEW

Why this course?

Description

वर्मम/मर्म एक दर्द प्रबंधन प्रणाली - Varmam a pain management system in Hindi

 

क्या आप जानते हैं कि वर्मम के इस ज्ञान को प्राप्त करने के लिए लोग कन्याकुमारी जा रहे हैं और वह भी सिर्फ तमिल भाषा में सीखने को मिल रहा है।

 साथ ही इस ज्ञान के सभी छिपे हुए तथ्य या रहस्य को नहीं पढ़ाया जाता है।
अब हम इस ज्ञान को बिना किसी रहस्य के अनुवाद  कर  रहे हैं और इसे आपके हथेली पर पेश कर रहे हैं और फिर भी लोग इस रहस्य को सीखने में संदेह कर रहे हैं (अब यह VKRC वर्मा कल्पा रेजुविनेशन  सेंटरके के  कारण कोई रहस्य नहीं रही है)।

हम यहाँ स्पष्ट रूप से देखते हैं कि कैसे माया ने हमें सत्य से प्रभावित किया है। कई जगह तो सीखने के लिए ऊंची फीस देने के बाद भी लोग असफल हो रहे हैं और व्यर्थ हैं।
यहां, हम इसे बहुत कम शुल्क या योगदान के साथ देने की कोशिश कर रहे हैं और फिर भी हमें अपने ही लोगों से कोई प्रोत्साहन नहीं मिल रहा है! 

 हम इस ज्ञान को पहले अपनी राष्ट्र भाषा हिंदी में देना पसंद करते हैं, फिर स्पेनिश, जर्मन, अन्य भाषाओं  में अनुवाद करेंगे और अन्य देशों को देंगे (यदि हम ऐसा करे तो ये  देशभक्ति नही  हैं)। ऐसा हम कई पीढ़ियों से करते आ रहे हैं, कि हमारे अनमोल ज्ञान अपने देश से बाहर ही पहचान बना पा रहा है। हम सब कुछ मुफ्त में प्राप्त करना चाहते हैं, क्योंकि हम सभी अपनी नीतियों के आदी हैं।

अभी भी हिंदी अनुवाद के बाद, अकेले भारत में ५२८,३४७,१९३ हिंदी भाषी आबादी में से लगभग ५८ छात्र इस प्रणाली को अपनाने में उत्सुकता दिखाए  हैं।

वर्मम विशेष रूप से वेदना  प्रबंधन के लिए है और भारत में  अस्थिसंधिशोथ(osteoarthiritis)दूसरी सबसे आम  समस्या है और यह भारत में २२% से ३९% (१,३८०,००४,३८५) की व्यापकता के साथ सबसे आम संयुक्त रोग है। varmam की प्रयोग से स्वास्थ्य में सुधार ला सकते हैं!

यदि प्रत्येक घर में कोई इस ज्ञान को सीखता है और अपने परिवार के सदस्यों की सहायता होगी और यदि आप स्वास्थ्य संबंधी सेवा या पेशे में हैं, तो आप और भी कई लोगों की सहायता कर सकते हैं।

हम कई अंतरराष्ट्रीय प्रणालियों को प्रोत्साहित करते हैं जो भारत के ज्ञान पर आधारित हैं जैसे रेकी, प्राणिक हीलिंग और कई अन्य। उदा.  १९९४ के विश्लेषण के अनुसार, केवल भारत में लगभग १,०००,००० लोग रेकी का अभ्यास करते हैं.

हमारे अपने प्रणाली को अपनाने और बढावा देने मे विचार विमर्श करते है! क्या आप हम से सहमत हैं?

श्री रमेश बाबू।

Course Curriculum

How to Use

After successful purchase, this item would be added to your courses.You can access your courses in the following ways :

  • From the computer, you can access your courses after successful login
  • For other devices, you can access your library using this web app through browser of your device.

Reviews